शुक्रवार, 2 मार्च 2012

असूर्यम्पश्या


एक नयी डिजिटल पेंटिंग ....शायद पसंद आये आप सबों को....

9 टिप्‍पणियां:

  1. कुछ कह रही है ये तस्वीर.... जिसे सिर्फ महसूस किया जा सकता है....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुंदर, बधाई ..........

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही खूबसूरत...एक नयी विधा से परिचय करवाने के लिए...धन्यवाद...बाई द वे ये बनती कैसे है...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर लगी यह पेंटिंग !
    पर
    असूर्यम्पश्या इस का क्या मतलब हुआ ?

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुमन जी, जहां तक मेरा सीमित ज्ञान है वहाँ तक असूर्यम्पश्या का शाब्दिक अर्थ है वह जिसे सूरज की किरने छू तक न गयी हों या वह जो सूरज को देख न सके...
    बाणभट्ट जी...मन की गति को अंगुलियों से लय ताल में बांध कर रंगों से निखारने की कोशिश करता हूँ ...बन ही जाती है कुछ न कुछ॥

    उत्तर देंहटाएं
  6. डिजिटल पेंटिंग बहुत ही खूबसूरत दिख रही है| अग्नि सी प्रखर पर स्निग्ध ..|

    उत्तर देंहटाएं