शुक्रवार, 4 मार्च 2011

देवी

या देवी सर्वभूतेषु विष्णुमायेति शब्दिता...
नारी तुम केवल श्रद्धा हो....
मेरी श्रद्धा के पुष्प सम्पूर्ण नारी जाति को समर्पित।

2 टिप्‍पणियां:

  1. समस्त नारी जाति के लिए आपके ह्रदय में श्रद्धा देखकर , ये मन आपके आगे नतमस्तक है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर विचार| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं